4gl language in hindi

4gl Language in Hindi

Definition of 4gl language in hindi:-  4GL का पूरा नाम fourth-generation programming language (फोर्थ जेनरेशन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज) होता है। यह बहुत ही आधुनिक एवं उच्च स्तर की प्रोग्रामिंग भाषा है, जो कि मनुष्य द्वारा बोली जाने वाली अंग्रेजी भाषा के काफी करीब है। जब 4gl language के उपयोग से किसी प्रोग्राम के source code को लिखा जाता है तो कोड का syntax मनुष्यों के द्वारा उपयोग की जाने वाली अंग्रेजी भाषा के बहुत ही करीब होता है। जिसके फलस्वरूप कोई भी इंसान फोर्थ जेनरेशन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को बड़ी आसानी से समझ सकता है एवं इनके उपयोग करके बड़ी सरलता से Programming का काम कर सकता है।

fourth generation language इतना सरल होता है कि इन्हें सीखने और समझने के लिए किसी अनुभवी सॉफ्टवेयर इंजीनियर की आवश्यकता नहीं होती। कोई भी सामान्य व्यक्ति इन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की भाषा को समझ सकता है एवं काफी जल्दी इन्हें सीख भी सकता है।

फोर्थ जेनरेशन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को इतना सरल इसलिए बनाया गया है, क्योंकि आम तौर पर इसका उपयोग Software Development के लिए नहीं होता बल्कि  database queries, report generators, mathematical optimization जैसे कामों के लिए होता है। इस प्रकार के काम अनुभवी Software Engineer के द्वारा नहीं किए जाते बल्कि बिज़नेस और मैनेजमेंट की पढ़ाई करने वाले लोगों द्वारा किए जाते हैं। उन लोगों को प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आसानी से समझ में आ सके और वह अपने काम को सरलता से कर सके इसी उद्देश्य से 4GL Language को इतना सरल बनाया गया है। हालांकि इसके कुछ अपवाद भी हैं क्योंकि कुछ ऐसे भी 4GL है जो कि काफी उन्नत किस्म के Software Development के लिए उपयोग होते हैं।

Example of fourth-generation programming language in Hindi:- वैसे तो आमतौर पर 4gl language का उपयोग database programming (डेटाबेस प्रोग्रामिंग) पर scripting (स्क्रिप्टिंग) में अधिक होता है, लेकिन इसके कुछ अपवाद भी उपलब्ध है। अर्थात कुछ ऐसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज भी हैं फोर्थ जेनरेशन के होते हुए भी समान्य कंप्यूटर आधारित सॉफ्टवेयर निर्माण के काम में उपयोग होते हैं। फोर्थ जेनरेशन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के अंतर्गत आने वाले सभी प्रोग्रामिंग भाषा एवं उनके प्रमुख उपयोग निम्नलिखित रुप से है:-

  1. SQL:- SQL का पूरा नाम Structured Query Language (स्ट्रक्चर्ड क्वेरी लैंग्वेज) है। इसका उपयोग उपयोग डेटाबेस में data को संग्रहित करने से लेकर रिपोर्ट प्रदर्शित करने तक के लिए होता है।
  2. Perl:- एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसे मुख्य रूप से text processing के लिए विकसित किया गया था, लेकिन वर्तमान समय में इसका उपयोग वेब डेवलपमेंट, नेटवर्क प्रोग्रामिंग, GUI डेवलपमेंट में भी होता है।
  3. Python:- पाइथन एक उच्चस्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा है, जिसका उपयोग वेब डेवलपमेंट एप्लीकेशन और सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट जैसे कामों में होता है।
  4. Ruby:- यह एक स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है जिसका उपयोग मुख्य रूप से वेब एप्लीकेशन डेवलपमेंट में होता है।
  5. MatLab:- MATLAB का पूरा नाम MatrixLaboratory है। इसका उपयोग मुख्य रूप से गणित संबंधी गणना के लिए किया जाता है।

Advantages and Disadvantages of 4gl Language in Hindi

Advantages of 4gl Language in Hindi :- सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में 4gl के उपयोग से होने वाले प्रमुख लाभ निम्नलिखित रुप से हैं

  • 4th generation language में उपयोग होने वाले Keywords, Command और Syntax बिलकुल अंग्रेजी भाषा में उपयोग किए जाने वाले सामान्य शब्दों की तरह होते हैं इसी कारण इसे सीखना और समझना बहुत आसान है।
  • 4gl language को इस प्रकार से डिजाइन किया गया है कि यह Software Development में लगने वाले कुल समय लागत और प्रयास को कम कर सके।
  • कुछ ऐसे भी 4GL भाषा है जिनमें कोड के साथ symbol और icons का उपयोग भी किया जाता है।
  • इसका उपयोग data processing, report generation, web development, application development जैसे सभी प्रकार के कामों में होता है।

Disadvantages of 4gl Language in Hindi:- हालांकि 4gl के कई लाभ है, इसके साथ ही डेटाबेस और रिपोर्ट से संबंधित कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां की इसका उपयोग करना अनिवार्य है, क्योंकि इसके अलावा किसी भी दूसरे लैंग्वेज इस प्रकार का काम नहीं कर सकता। लेकिन इसके उपयोग के कुछ नकारात्मक प्रभाव होते है जो की निम्नलिखित रुप से है :-

  • यह काफी Slow भाषा है। किसी मशीनी भाषा की तुलना में तो ये बहुत अधिक धीमा होता है।
  • जब इसके उपयोग से किसी एप्लीकेशन का सॉफ्टवेयर का निर्माण किया जाता है, तो वह किसी दूसरे पीढ़ी के प्रोग्रामिंग भाषा की तुलना में ज्यादा Crash या Hang होता है।
  • इनको बहुत अधिक कंप्यूटर संसाधन जैसे कि CPU और Memory की आवश्यकता होती है।

History of 4gl Language in Hindi :- यह कोई नई भाषा नहीं है इसे 1980 के दशक में ही विकसित कर लिया गया था। इसके बारे में

4gl language in hindi

4gl Language in Hindi

सबसे पहले James Martin (जेम्स मार्टिन) नाम के कंप्यूटर वैज्ञानिक ने अपनी पुस्तक ‘Applications Development Without Programmers’ (एप्लीकेशन डेवलपमेंट विदाउट प्रोग्रामिंग) में बताया था। इसी पुस्तक में उन्होंने बताया था कि कैसे हम एक सरल अंग्रेजी के शब्दो का उपयोग करके विभिन्न प्रकार के Program और Application बना सकते हैं, क्योंकि इससे पहले Application Development के लिए उपयोग किए जाने वाले 3GL अर्थात third-generation programming language जैसे की C, C++, Java आदि काफी जटिल हुआ करते थे और केवल एक वही लोग इन प्रोग्रामिंग भाषा को समझ सकते है, जिन्होंने इनके विषय में विशेष पढ़ाई कर रखी है।  हालाँकि 4gl के बाद 5GL मतलब की fifth-generation programming language को भी विकसित कर लिए गया है जोकि 4gl से भी अधिक उन्नत एवं सरल है लेकिन आज भी 4gl का बहुत अधिक उपयोग होता है।

Conclusion on 4gl Language in Hindi:- इस लेख में हमने फोर्थ जेनरेशन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सरल हिंदी भाषा में समझाने का प्रयास किया है। उम्मीद है कि आपको Fourth Generation Languages पर यह आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर आप इस लेख से संबंधित कोई सुझाव हमें देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं जिससे कि हम अपने लेख में आवश्यक परिवर्तन करके जवाब अधिक उपयोगी बना सकें।

4

No Responses

Write a response