decision support system in hindi

What is Decision Support System?

Definition of Decision Support System in Hindi:- डिसीजन सपोर्ट सिस्टम को संक्षेप में DSS भी कहा जाता है। DSS एक कंप्यूटर-आधारित सॉफ्टवेयर होता है, जिसका मुख्य काम है किसी संगठन या व्यवसाय के Data को इकट्ठा करके उसे संगठित करना और उसका विश्लेषण करना , ताकि प्रबंधक और अधिकारी सही व्यावसायिक निर्णय आसानी से ले सकें और समस्याओं को सुलझा सके ।

Decision Support System में किसी बिजनेस ऑर्गेनाइजेशन के अंदर किए जाने वाले रोजमर्रा की गतिविधियों से संबंधित जानकारियों को डिजिटल रूप में संग्रहित किया जाता है तथा इन्हीं जानकारियों के विश्लेषण करके कंपनी के अधिकारी एवं मैनेजर संगठन से संबंधित विभिन्न प्रकार के महत्वपूर्ण व्यावसायिक निर्णय आसानी से ले सकते है तथा ये जानकारियाँ उस संगठन से संबंधित जटिल चुनौतियों का भी समाधान करते हैं। आजकल DSS सॉफ्टवेयर के साथ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) की तकनीक का भी उपयोग होने लगा है। जिसके फलस्वरूप DSS सॉफ्टवेयर रिपोर्ट प्रकाशित करने के साथ-साथ कंप्यूटर में संग्रहित डाटा के आधार पर विभिन्न प्रकार के suggestion अर्थात सलाह भी प्रदान करता है, जोकि उस ऑर्गेनाइजेशन से जुड़े हुए अधिकारियों के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लेने में बहुत अधिक मददगार होते हैं।

DSS का उपयोग किस प्रकार के संगठनों द्वारा किया जाता है ?

Decision Support System अर्थात निर्णय समर्थन प्रणाली का उपयोग सभी प्रकार के व्यवसाय में,  पेशेवर लोग जैसे कि वकील, चार्टर्ड अकाउंटेंट, चिकित्सा के क्षेत्र में, सरकारी संगठनों द्वारा, corporate इत्यादि के छेत्र में किया जा सकता है। DSS की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसे लागू करने के लिए बहुत अधिक पैसों का निवेश नहीं करना पड़ता। बल्कि किसी भी साधारण कंप्यूटर में इस सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करके प्रक्रिया को प्रारंभ किया जा सकता है। इसी कारण से किसी भी छोटे, माध्यम एवं बड़े व्यवसायिक एवं गैर-व्यवसायिक संगठनों द्वारा DSS की तकनीक का उपयोग किया जा सकता है।

Need Of Decision Support System in Hindi

Need Of Decision Support System in Hindi :- किसी संगठन में कई प्रकार के data होता है जैसे की सभी कर्मचारी , अधिकारी ,  व्यावसायिक मॉडल,  ग्राहक को किया गया बिक्री से संबंधित डेटा ।  ये सभी डेटा असंगठित ( Unorganized ) रूप में होती है इसलिए इनमें छुपे महत्वपूर्ण जानकारियों को समझने के लिए सबसे पहले इन्हें संगठित ( Organized ) करना पड़ता है। DSS एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो इन डाटा को संगठित करता है और आवश्यक महत्वपूर्ण जानकारियों को संक्षिप्त रूप में एक Report की तरह प्रस्तुत करता है, जिससे अधिकारी इन Data में छुपे हुए पैटर्न को समझ कर आवश्यक निर्णय ले पाते है।

Example:- किसी विशेष उत्पाद से संगठन को वर्ष के किस महीने में कितने रुपए का लाभ हुआ है इसे Bar Chart के उपयोग से  graphically ( चित्रवत् ) प्रदर्शित किया जा सकता है।

Characteristics of Decision Support System in Hindi :-

  • यह समस्या को सुलझाने और आवश्यक निर्णय लेने के लिए जानकारियों को व्यवस्थित करने का एक तरीका है।
  • जैसे-जैसे समय बीतता जाता है और DSS में Data जमा होते जाता है वैसे-वैसे यह अधिक उपयोगी हो जाता है।
  • DSS का डेटा Online Server में जमा होता है, इसीलिए अधिकृत लोग User Id और Password के उपयोग से इसे किसी भी जगह से मोबाइल, टेबलेट, लैपटॉप से Access कर सकते हैं।
  • DSS में जमा जानकारियों का उपयोग कई प्रकार से किया जा सकता है जैसे कि वित्तीय लेन-देन के जांच के लिए, विकल्पों की पहचान करके सही चुनाव करने के लिए, कर्मचारियों की योग्यता, कार्यक्षमता और और attendance की जांच के लिए।

Advantages Decision Support System in Hindi

Benefits / Advantages Decision Support System in Hindi :-

  • DSS जानकारियों के अभाव में लिए गए गलत निर्णय से बचाता है और किसी संगठन के हित में सही निर्णय लेने की क्षमता को बढ़ाता है।
  • DSS में जमा data का विश्लेषण करके लिया गया निर्णय उच्च गुणवत्ता के होते हैं और इनके सफल कार्यान्वयन की अधिक संभावना होती है।
  • Decision Support System उन सभी जटिल समस्याओं के समाधान ढूंढने में मदद करता है, जिन्हें किसी अन्य कम्प्यूटरीकृत दृष्टिकोण द्वारा हल नहीं किया जा सकता है।
  • यह किसी संगठन के अलग-अलग प्रबंधकों के बीच संचार को बहुत सुविधाजनक बनाता है और प्रबंधकीय प्रक्रियाओं को स्वचालित करने में मदद करता है।
  • DSS निर्णय लेने के लिए कई अलग-अलग प्रकार के वैकल्पिक दृष्टिकोणों का खुलासा करता है और एक अच्छा निर्णय लेने में मदद करता है।

Types Of DSS in Hindi

Types Of DSS in Hindi:- डिसीजन सपोर्ट सिस्टम मुख्य रूप से निम्नलिखित प्रकार के होते है :-

  • Communication driven DSS:- इस प्रकार के DSS का उपयोग किया जाता है जब निर्णय निर्माता समूह में काम करते हैं। यह आपसी संचार का बहुत अधिक समर्थन करता है और इसके लिए दस्तावेज़ साझाकरण, चैट और इंस्टेंट मैसेजिंग सॉफ्टवेयर्स, ऑनलाइन सहयोग और नेट-मीटिंग सिस्टम का उपयोग किया जाता है।
  • Model-driven DSS :- यह निर्णयों या मॉडलों का विश्लेषण करने और विभिन्न विकल्पों के बीच चयन करने में मदद करती है। इसका उपयोग सिमुलेशन मॉडल बनाने, उत्पादन योजना और शेड्यूलिंग करने और सांख्यिकीय और वित्तीय रिपोर्ट बनाने के लिए किया जाता है।
  • Document-driven DSS :- यह unstructured documents ( असंरचित दस्तावेजों ) जैसे की कंपनी की नीतियों और प्रक्रियाओं से सम्बन्धी दस्तावेज, ऐतिहासिक दस्तावेजों, कॉर्पोरेट रिकॉर्ड आदि को एकीकृत करके विश्लेषण करने में मदद करते हैं।
  • Knowledge-driven DSS :- यह एक artificial intelligence ( कृत्रिम बुद्धि ) वाला कंप्यूटर सिस्टम हैं जो विभिन्न प्रकार के डेटा का विश्लेषण करके प्रबंधकों को यह सुझाव देते हैं कि उन्हें समस्या का समाधान किस प्रकार से करना चाहिए या किसी परिस्थिति में कौन सा निर्णय लेना चाहिए।
  • Data-driven DSS:- इसका उपयोग विभिन्न स्रोतों से बहुत बड़ी मात्रा में डाटा को इकट्ठा करके उसका विश्लेषण करने के लिए किया जाता है। कई बार इसका उपयोग बाहर के डाटा जैसे कि इंटरनेट से डाटा को इकट्ठा करके उसका विश्लेषण करने के लिए किया जाता है।

Conclusion of Decision Support System in Hindi :- DSS एक कम्प्यूटरीकृत प्रोग्राम है जो व्यावसायिक डेटा का विश्लेषण करके उन्हें Report के रूप में प्रस्तुत करती है ताकि उपयोगकर्ता व्यावसायिक निर्णय आसानी से ले सकें। हालांकि बाजार में DSS जैसी ही कई और सॉफ्टवेयर प्रणाली उपलब्ध है, जिनका उपयोग इसके विकल्प के रूप में किया जा सकता है। लेकिन Decision Support System इसलिए खास है क्योंकि इसे इंस्टॉल करने के लिए किसी विषेस हार्डवेयर रिसोर्स की आवश्यकता नहीं पड़ती है। वल्कि ऑफिस के किसी भी समान्य कंप्यूटर जो नेटवर्क से कनेक्टेड हो उसमें DSS को इंस्टॉल किया जा सकता है। इसके साथ ही इसमें वित्तीय लेनदेन से संबंधित सूचनाओं पर अधिक जोड़ दिया जाता है। इसलिए जिन व्यावसायिक संगठनों द्वारा अपने वित्तीय लेनदेन से संबंधित जानकारियों का गहन विश्लेषण करना हो वह इस प्रकार के सॉफ्टवेयर प्रणाली का उपयोग अधिक सकते हैं।

इस लेख में हमने DSS को सरल हिंदी भाषा में समझाने का प्रयास किया है। उम्मीद है कि आपको Decision Support System in Hindi का यह लेख पसंद आया होगा। अगर आप DSS के इस लेख से संबंधित कोई सुझाव हमें देना चाहते तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं जिससे कि हम अपने लेख में आवश्यक परिवर्तन करके इसे और अधिक उपयोगी बना सके।

No Responses

Write a response