Disk Scheduling Algorithms in Hindi

What is Disk Scheduling Algorithms in Hindi

Definition of Disk Scheduling Algorithms in Hindi:- किसी भी मल्टिप्रोसेसिंग कंप्यूटर अर्थात ऐसा operating system जिसमे एक ही समय पर उपयोगकर्ता द्वारा दिए गए दो या दो से अधिक Instruction ( निर्देश ) का निष्पादन किया जाता है, उसमें hard disk से किसी प्रकार के जानकारी को प्राप्त करने के लिए या कुछ जानकारी को hard disk में जमा करने के लिए किसी भी समय बहुत सारे अनुरोध होते रहते है।

एक ही समय पर hard disk तक पहुँचने के बहुत सरे अनियंत्रित अनुरोध के कारन computer system के कार्यक्षमता पर बुरा प्रभाव पर सकता है । उदाहरण के लिए अगर एक साथ दो अलग-अलग निर्देशों द्वारा हार्ड डिस्क में संग्रहित किसी सामान जानकारी को एक्सेस करने का प्रयास किया जाये या फिर किसी सामान एड्रेस पर दो अलग-अलग निर्देशों द्वारा नए data को store करने का प्रयास किया जाये तो इससे समस्या उत्पन्न हो सकती है। इसीलिए कंप्यूटर के CPU द्वारा hard Disk को एक्सेस करने के लिए आने वाले अनुरोध को ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा Manage ( प्रबंधित ) करने के लिए Disk Scheduling Algorithms (डिस्क शेड्यूलिंग एल्गोरिदम) का उपयोग किया जाता है।

Need of Disk Scheduling in Hindi

  • एक ही समय पर hard disk को Access करने के लिए बहुत सारे अनुरोध आ सकते हैं, लेकिन हार्ड डिस्क एक समय पर केवल एक ही अनुरोध को सेवा दे सकती है। इस प्रकार अन्य अनुरोध कतार में किस तरह से प्रतीक्षा करेंगे ये निर्धारित करना आवश्यक है।
  • हार्ड ड्राइव पुरे कंप्यूटर सिस्टम के सबसे धीमे भागों में से एक है। CPU चाहे कितनी भी जल्दी निर्देशों का निष्पादन करने की क्षमता रखता हो, लेकिन निष्पादन के काम को पूरा होने के लिए निर्देशों को कई संसाधन और जानकारियों की आवश्यक होती है, जिसके लिए ये hard disk में जमा जानकारियों पर निर्भर है। अगर hard disk जरूरत के अनुसार CPU को सही समय पर response ना करें जिससे पूरे कंप्यूटर की गति भी धीमा हो जायेगा। इसलिए बहुत आवश्यक है कि hard disk को Access करने के लिए एक बेहतर प्रबंधन की व्यवस्था की जाए।

Type of Disk Scheduling Algorithms in Hindi

Type of Disk Scheduling Algorithms in Hindi :- डिस्क शेड्यूलिंग एल्गोरिदम निम्नलिखित प्रकार के होते हैं:-

  • First Come First Serve ( FCFS ) :- ये सभी डिस्क एल्गोरिदम में सबसे अधिक सरल है। First come first serve (FCFS) का हिंदी में मतलब होता है – पहले आओ पहले पाओ। इसमें अनुरोधों को हार्ड डिस्क तक पहुंचने के क्रम को समय के अनुसार सारणी में रखा जाता है मतलब की जो अनुरोध सबसे पहले आएगा उसे हार्ड डिस्क तक सबसे पहले पहुँचने का मौका मिलेगा।
    • Disadvantage :- हालांकि FCFS का उपयोग करना बहुत आसान है और इसमें सभी अनुरोध को एक-एक करके हार्ड डिस्क के उपयोग करने का मौका मिलता है, लेकिन इसमें कई समस्या भी है ।
  • Shortest Seek Time First (SSTF) :- इसमें उस अनुरोध का चयन सबसे पहले किया जाता है, जिसे अपनी वर्तमान स्थिति से hard disk में संग्रहीत डेटा को खोजने में सबसे कम समय लगेगा। किस अनुरोध को अपने लिए आवश्यक Data को Hard Disk से ढूंढने में कितना समय लगेगा इसकी गणना पहले ही कर ली जाती है और इस गणना के आधार पर अनुरोध को कतार में क्रमबद्ध सजाया जाता है।
    • Advantages :- यह अनुरोधों की प्रवाह क्षमता को बढ़ाता है और पहले वाले algorithm की तुलना में कम समय लेता है।
    • Disadvantage :- अगर किसी अनुरोध के द्वारा अपने Data को ढूंढने में ज्यादा समय लगने वाला है, तो आने वाले सभी अनुरोध उसे पीछे धकेलते जाएंगे और बड़े अनुरोध को काफी लम्बे समय तक इंतजार करना पड़ सकता है।
  • SCAN :- यह एक विशेष दिशा में आगे बढ़ता है और इसके पथ में आने वाले अनुरोधों को सेवा देता है, फिर अंत तक पहुंचने के बाद, यह अपनी दिशा को उलट देता है और फिर से दूसरे ओर से आने वाले अनुरोधों को सेवा देता है। इसे कई बार Elevator या Lift ( लिफ्ट )  Algorithm के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि ये लिफ़्ट की तरह तरह ही एक दिशा में अंतिम मंजिल तक पूरी तरह से चलती है और फिर वापस मुड़ जाती है।
    • Advantages :- यह अनुरोधों को हार्ड डिस्क तक औसतन जल्दी पहुंचने में मदद करता है।
    • Disadvantage :- अभी-अभी देखे गए स्थानों के अनुरोधों के लिए लंबा प्रतीक्षा करना पड़ता है।
  • C-SCAN ( Circular-SCAN ) algorithm :- यह एल्गोरिथ्म भी SCAN एल्गोरिदम के समान है, यह किसी एक दिशा में अनुरोधों को सेवा देते हुए Disk के अंतिम छोर तक यात्रा करती है, भले ही उस छोर तक कोई अनुरोध हो या ना हो। उसके बाद अपने दिशा को उलटने के बजाय Disk के दूसरे छोर से अनुरोधों को सेवा देते हुए पहले छोर तक आती है। कोई नया अनुरोध जो इसके यात्रा के दौरान बीच में आती है यह उसके लिए नहीं रूकती है।
    • Advantages :- यह SCAN algorithm की तुलना में जल्दी सेवा देने में सक्षम है।
    • Disadvantage :- अनुरोध ना हो फिर भी यह Disk के अंतिम छोर तक यात्रा करती है।

 

Conclusion on Disk Scheduling Algorithms in Hindi:- किसी भी मल्टिप्रोसेसिंग कंप्यूटर में अर्थात ऐसा कंप्यूटर जिसके CPU द्वारा एक ही समय में एक से अधिक निर्देशों का निष्पादन किया जाता हो। उसमें एक ही समय पर कई अलग-अलग निर्देशों द्वारा कंप्यूटर के हार्ड डिस्क में संग्रहित जानकारियों को access करने का प्रयास किया जा सकता है या किसी नए जानकारी को कंप्यूटर के हार्ड डिस्क में संग्रहित करने का प्रयास किया जा सकता है। लेकिन अगर एक साथ दो अलग-अलग निर्देश किसी सामान जानकारी को एक्सेस करने का प्रयास करें या फिर किसी सामान एड्रेस पर दो अलग-अलग निर्देशों द्वारा किसी जानकारी को संग्रहित करने का प्रयास किया जाए तो इससे समस्या उत्पन्न हो सकती है। इस प्रकार के समस्या से बचने के लिए कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा Disk Scheduling Algorithms का उपयोग किया जाता है। यह डिस्क शेड्यूलिंग एल्गोरिथ्म हार्ड डिस्क को एक्सेस करने के लिए आने वाले सभी निर्देशों को प्रबंधित करती हैं तथा उन्हें एक-एक करके हार्ड डिस्क तक पहुंचने में मदद करती है।

इस लेख में हमने डिस्क शेड्यूलिंग एल्गोरिदम को सरल हिंदी भाषा में समझाने का प्रयास किया है। उम्मीद है कि आपको Disk Scheduling Algorithms in Hindi का यह लेख पसंद आया होगा। अगर आप इस लेख से संबंधित कोई सुझाव हमें देना चाहते हैं, तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं। जिससे कि हम अपने लेख में आवश्यक परिवर्तन करके इसे और अधिक उपयोगी बना सकें।

6

No Responses

Write a response