laravel kya hai

Laravel Tutorial in Hindi

Definition of Laravel in Hindi:- लारावेल सबसे लोकप्रिय और शक्तिशाली MVC framework है, जिसका उपयोग साधारण website से लेकर जटिल web-based applications को विकसित करने के लिए किया जाता है। लारावेल को पूरी तरह से MVC Architecture के आधार पर डिजाइन किया गया है अतः इसके उपयोग से बनाये गए वेब आधारित प्रोजेक्ट के Source Code को बहुत ही खूबसूरती से Model, View, Controller में विभाजित कर दिया जाता है, जिसके कारण प्रोजेक्ट निर्माण का काम बहुत ही सरलता से पूरा किया जा सकता है। यह किसी भी प्रोजेक्ट के सोर्स कोड को अच्छे से प्रबंधित करने की सुविधा प्रदान करता है, जिसके कारण प्रोजेक्ट निर्माण के काम को काफी सरलता से पूरा किया जा सकता है।

इसे को PHP के उपयोग से बनाया गया है, जो की एक server side scripting languages है। Laravel को पूरी तरह से Object-Oriented Programming System (OOPs) के नियमों का पालन करके बनाया गया है इसलिए वेबसाइट तथा वेब आधारित एप्लीकेशन के निर्माण में लारावेल फ्रेमवर्क का उपयोग करने से ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग की सभी विशेषताएं जैसे कि Polymorphism, encapsulation, inheritance, data hiding आदि का लाभ उठाया जा सकता है। Laravel एक open-source framework है, मतलब की कोई भी इसे मुफ़्त में download करके इसका उपयोग कर सकता है, और इसके source code को अपने आवश्यकता के अनुसार edit भी कर सकता है।

लारावेल को बिल्कुल निशुल्क डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें -> Laravel Download Link.

History of Laravel in Hindi

इसके सबसे पहले संस्करण को Taylor Otwell ( टेलर ओटवेल ) द्वारा 9 June 2011 को जारी किया गया था।  Laravel को CodeIgniter नाम के बहुचर्चित MVC framework में मौजूद कमियां जैसे की user authentication ( उपयोगकर्ता प्रमाणीकरण ) और authorization ( प्राधिकरण )  को दूर करके एक अधिक उन्नत विकल्प प्रदान करने के प्रयास के रूप में बनाया गया था। समय-समय पर laravel के कई अलग-अलग संस्करण निकाले गए। उन संस्थानों में इसके साथ कई और गुणों को जोड़ा गया। जिसके कारण वर्तमान समय में यह सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला PHP आधारित MVC फ्रेमवर्क बन गया है। इसका सबसे नवीनतम संस्करण version 8 को September 8, 2020 को निकाला गया था।

What Should i Know Before Learning Laravel in Hindi:- लारावेल सिखने से पहले आपको निम्नलिखित विषयों की बुनियादी समझ होनी चाहिए :-

  • HTML :- Laravel का उपयोग वेब आधारित उत्पाद के निर्माण में किया जाता है इसलिए यह बहुत आवश्यक है कि इसे सीखने से पहले HTML की समझ हो। क्योंकि सभी web धारित उत्पाद के designing में HTML का ही उपयोग किया जाता है।
  • PHP :- Laravel को PHP के उपयोग से बनाया गया है। इसमें सभी कोड PHP scripting languages के उपयोग से लिखे जाते हैं। इसलिए डेवलपर को Laravel का उपयोग करने से पहले PHP का पूरा ज्ञान होना चाहिए।
  • OOP ( Object Oriented Programming ) :- Laravel पूरी तरह से Object Oriented Programming के Syntax का पालन करता है। इसमें Class, Object, encapsulation, polymorphism, inheritance जैसे अवधारणाओं का उपयोग हुआ है। इसलिए Laravel सिखने से पहले PHP के साथ ही ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग की भी आवश्यकता होती है।

Advantages and Disadvantages Of Laravel Framework in Hindi

Advantages Of Laravel Framework in Hindi :- website या web-application के निर्माण में लारावेल फ्रेमवर्क का उपयोग करने पर निम्नलिखित लाभ प्राप्त होते हैं:-

  • Laravel एक Open Source framework है। ये पुरे तरह से Free में उपलब्ध है और हम अपने आवश्यकता के अनुसार इसके कोड को Edit भी कर सकते है।
  • Website पर कई प्रकार के Hacking, Virus attacks होते रहते है। इनसे बचने के लिए Laravel उच्च श्रेणी की सुरक्षा क्षमता प्रदान करना है । यह web और Data को किसी भी प्रकार के cyber attacks से सुरक्षित करता है।
  • लारावेल फ्रेमवर्क को पूरी तरह से ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग सिस्टम का उपयोग करके डिजाइन किया गया है। इसी कारण अगर हम वेब आधारित प्रोजेक्ट के निर्माण में लारावेल फ्रेमवर्क का उपयोग करते हैं, तो ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग के सभी विशेषताओं जैसे कि Class, Object, encapsulation, polymorphism, inheritance आदि का भी लाभ उठा सकते हैं।
  • Laravel में पहले से बहुत सारे Standard ( सर्वस्वीकृत ) Class, Function, Tools उपलब्ध है, जिनका उपयोग कोई भी आसानी से करके बहुत ही कम समय में एप्लीकेशन डेवलपमेंट के काम को पूरा कर सकता है। Laravel के आधिकारिक वेबसाइट पर इन सभी Standard Tools के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध है।
  • उपयोगकर्ता प्रमाणीकता को जांचने के लिए इसमें पहले से कई गुणों को जोड़ा गया है, किसी भी developer को इसके लिए अलग से कुछ भी करने की आवश्यकता नहीं है।
  • कोई वेबसाइट किस तरह से त्रुटियों को संभालता है यह उपयोगकर्ता की संतुष्टि पर बड़ा प्रभाव डालता है। उदाहरण के लिए अगर वेब के किसी form में Email लिखकर Submit करना है लेकिन अगर कोई वहां ईमेल की जगह कुछ गलत जानकारी लिखकर Submit करने के प्रयास करता है तो इस समस्या को वेबसाइट किस प्रकार से संभालता है, यह बहुत मायने रखती है। Laravel में इस प्रकार की समस्या को संभालने के लिए पहले से ही कई प्रकार के Tools को जोड़ा गया है इसलिए इसके बारे में चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं पड़ती है।
  • Laravel Framework के उपयोग से बनाया गया web-application बहुत Fast होता है और उपयोगकर्ता बहुत अच्छा अनुभव प्रदान करता है। इसमें cache drivers नाम का एक टूल जोड़ा गया है जिसके कारण जैसे कि कोई सामान्य उपयोग करता Site को पहली बार खोलता है तो सभी images और Files को उसके निजी कंप्यूटर में एक समय के लिए जमा हो जाता है और दूसरी बार वह बहुत ही कम समय में site को खोल पता है।
  • उपयोगकर्ताओं को ईमेल से सूचनाएं भेजने के लिए Laravel में Email services को जोड़ा गया है।
  • इस फ्रेमवर्क का उपयोग किस प्रकार से करना है तथा इसमें पहले से जितने भी क्लास को परिभाषित करके विशेषताओं को जोड़ा गया है। उनके विषय में विस्तार से जानकारी देने के लिए लारावेल के निर्माताओं ने एक आधिकारिक डॉक्यूमेंट भी प्रकाशित किया है। इसे कोई भी बिल्कुल मुफ्त में ऑनलाइन या डाउनलोड करके पढ़ सकता है। इसके आधिकारिक डॉक्यूमेंट को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें -> Laravel Documentation.

Disadvantages of Laravel Framework in Hindi :- जैसा कि ऊपर आपने देखा लारावेल फ्रेमवर्क के उपयोग से बहुत सारे लाभ मिलते हैं, लेकिन इसके कुछ प्रमुख खामियां भी है जोकि निम्नलिखित रुप से है:-

  • कोई भी सामान्य web-developer या software engineer को PHP जैसे सर्वर साइड स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज का ज्ञान होने के बाद भी वह सीधे लारावेल फ्रेमवर्क का उपयोग नहीं कर सकता क्योंकि लारावेल में कुछ विशेष क्लास को पहले से ही बनाकर उनके नाम एवं ऑब्जेक्ट परिभाषित कर दिए गए हैं। इसलिए इसका उपयोग करने से पहले डेवलपर को इसके विभिन्न क्लास एवं उनके ऑब्जेक्ट से संबंधित ज्ञान होना चाहिए।
  • इसका उपयोग करने से पहले MVC architecture की मूल धारणा अर्थात Model, View, Controller के संबंध में ज्ञान होना चाहिए। MVC में किसी प्रोजेक्ट के सोर्स कोड को उसके द्वारा किए जाने वाले काम के अनुसार तीन अलग-अलग लॉजिकल खंडों में विभाजित कर दिया जाता है। चूँकि लारावेल भी MVC architecture का पालन करती है इसलिए इसका उपयोग करने से पहले डेवलपर को एमवीसी आर्किटेक्चर को समझना होगा।
  • यह किसी बहुत बड़े प्रोजेक्ट के सोर्स कोड को खूबसूरती से सुव्यवस्थित करने की सुविधा प्रदान करता है, जिसके कारण कोड का प्रबंधन आसानी से किया जा सकता है। लेकिन किसी छोटे प्रोजेक्ट के लिए इतने जटिल फ्रेमवर्क की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि इसके कारण छोटे प्रोजेक्ट में व्यर्थ का परिश्रम होता है।

Conclusion on Laravel Tutorial in Hindi :- लारावेल फ्रेमवर्क एमवीसी आर्किटेक्चर पर आधारित होने के कारण प्रोजेक्ट के सोर्स कोड को खूबसूरती से सुव्यवस्थित करने के साथ-साथ निर्माण के काम को सरलता से और जल्दी पूरा करने में भी मदद करता है। हालांकि जो इसका उपयोग पहली बार कर रहा है, उसके लिए इसे समझना थोड़ा जटिल हो सकता है। लेकिन इसके निर्माताओं ने इसके उपयोग को आसान बनाने के लिए आधिकारिक डॉक्यूमेंट में इससे संबंधित सभी प्रश्नों के उत्तर को सरलता से समझाने का प्रयास किया है।

इस लेख में हमने Laravel Tutorial को सरल हिंदी भाषा में समझाने का प्रयास किया है। उम्मीद है कि Laravel Tutorial in Hindi का यह लेख आपको पसंद आया होगा। अगर आप इस लेख से संबंधित कोई सुझाव हमें देना चाहते हैं, तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं, जिससे कि हम अपने लेख में आवश्यक परिवर्तन करके इसे और अधिक उपयोगी बना सकें।

1

No Responses

Write a response