mvc tutorial in hindi

What is MVC in Hindi

MVC Tutorial in Hindi:- MVC का पूरा नाम Model-View-Controller (मॉडल-व्यू-कन्ट्रोलर) है | MVC किसी सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन या वेब आधारित प्रोजेक्ट के Source Code को संगठित करने के लिए बनाया गया framework है | इसमें किसी सॉफ्टवेयर प्रोजेक्ट के निर्माण की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए source code को उसके काम के अनुसार तीन लॉजिकल भागों में बांट दिया जाता है।

  • Model :- इसमें केबल Data से संबंधित कोड होता है, जैसे कि User की जानकारियों को डेटाबेस में जमा करने से संबंधित कोड और डेटाबेस में जमा जानकारियों को आवश्यकतानुसार Access करने से सम्बंधित कोड मॉडल में होता है।
  • View :- जानकारियों को उपयोगकर्ता के समक्ष किस प्रकार से प्रस्तुत करना है इससे संबंधित कोड View में होता है मतलब की मॉडल द्वारा डेटाबेस से एक्सेस की गई जानकारियों को view के मदद से user के समक्ष प्रस्तुत किया जाता है। कई बार जानकारियों को प्रस्तुत करने के लिए सुन्दर डिज़ाइन, chats, diagrams, table  उपयोग किया जाता है, इनका प्रतिनिधित्व भी view द्वारा किया जाता है। जानकारियों को database में जानकारियों को किस प्रकार से जमा किया जा रहा है या database से जानकारियों को किस प्रकार से लाया जा रहा है,  इससे संबंधित कोई भी कोड View में नहीं होता है।  view में  केवल जानकारियों को प्रस्तुत करने से संबंधित code होता है।
  • Controller :- इसका मुख्य काम है view और model के बीच सामंजस्य स्थापित करना। जब भी कोई user किसी MVC के उपयोग से बनाए गए एप्लीकेशन को कोई instructions देता है, तो ये सबसे पहले Controller के पास जाता है और इस कंट्रोलर इस instructions को निष्पादित करते हुए model को आवश्यक data के लिए request भेजता है फिर model से data लेकर view को प्रदान करता है जिसके बाद वो data उपयोगकर्ता के समक्ष प्रस्तुत किए जाते हैं। हम ऐसा भी कह सकते हैं कि Controller द्वारा Model और View के काम को Control ( नियंत्रित ) किया जाता है।

History of MVC in Hindi

History of MVC in Hindi :- MVC architecture को सबसे पहले 1979 में Trygve Reenskaug ( ट्राएगवे रेन्सकग ) द्वारा बनाया गया था। उस समय इन्होने Smalltalk-76 नाम के प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में इसका उपयोग किया था। फिर वर्ष 1988 में, “द जर्नल ऑफ़ ऑब्जेक्ट टेक्नोलॉजी” के एक लेख में MVC architecture की अवधारणा को पुरे विस्तार में समझाया गया। आज के समय में desktop applications, मोबाइल एप्लीकेशन, वेब आधारित एप्लीकेशन सब के निर्माण में MVC Framework  का उपयोग किया जाता है।

Example of popular MVC Framework in Hindi :- 

  • MVC Framework in PHP:- Laravel, Codeigniter, Symfony, CakePHP
  • MVC Framework in Python :-  Django, Flask, Web2py, cubicweb
  • MVC Framework in Java :- Spring Web Flow , Apache Struts.
  • MVC Framework in C++ :- TreeFrog Framework.
  • माइक्रोसॉफ्ट कंपनी द्वारा वेबसाइट या वेब आधारित एप्लीकेशन के निर्माण के लिए ASP.NET तथा विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम आधारित प्रोग्राम और सॉफ्टवेयर के निर्माण के लिए .NET और .NET Core जैसे फ्रेमवर्क बनाए गए हैं।

Advantage and Disadvantage of MVC in Hindi

Advantage of MVC in Hindi :-

  • इसके उपयोग से सोर्स कोड का रखरखाव करना और एप्लीकेशन का विकास करना आसान हो जाता है।
  • MVC architecture में एक ही Class के कोड का उपयोग कई अलग-अलग काम के लिए किया जा सकता है, इसलिए एप्लीकेशन को बनाने में कम कोड लिखना पड़ता है।
  • एप्लीकेशन के अलग-अलग भाग को सॉफ्टवेयर developer के अलग-अलग टीम के बीच बांटा जा सकता है, इससे application के विकास का काम जल्दी पूरा हो जाता है।
  • इसमें सभी भाग एक-दूसरे से स्वतंत्र होते हैं इसलिए Code का परीक्षण अलग-अलग कर ससकते है, इससे बहुत समय की बचत होती है।
  • जब किसी एप्लीकेशन के विकास में MVC का उपयोग किया जाता है तो सोर्स कोड को framework के मापदंडों के अनुसार ही लिखा जाता है। इसीलिए भविष्य में अगर कोड में किसी प्रकार का बदलाव करने की आवश्यकता होती है किसी भी डेवलपर के लिए Code को समझना काफी आसान होता है।

Disadvantage of MVC architecture in Hindi :-

  • कोई डेवलपर्स या सॉफ्टवेयर इंजीनियर जिसे एमवीसी फ्रेमवर्क पर काम करने का अनुभव नहीं है, वह इस पर सीधे काम शुरू नहीं कर सकता। उसे पहले MVC architecture को सीखना होगा जिसमें उसका काफी समय बर्बाद हो सकता है।
  • कहीं बाहर सिर्फ MVC के नियमों को पूरा करने के लिए बहुत ज्यादा Code लिखना पड़ता है, इसके कारण कई बार छोटे एप्लीकेशन को बनाने में ज्यादा समय लग जाता है।

Conclusion on MVC Framework in Hindi :- इसी सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन प्रोजेक्ट के निर्माण की प्रक्रिया कई जटिल चरणों से होकर गुजरती है और इन सभी चरणों में सबसे अधिक जटिल होता है उस सॉफ्टवेयर के Source Code को लिखने एवं उसे प्रबंधित करने की प्रक्रिया। किसी बिजनेस ऑर्गेनाइजेशन के लिए बनाए जा रहे सॉफ्टवेयर प्रोजेक्ट का आकार बहुत बड़ा होता है। जिसे बनाने के लिए लाखों लाइन के प्रोग्राम code लिखने पड़ते है। इतने सारे Code को लिखना और फिर उस कोड को संभालना दोनों ही काफी मुश्किल काम होता है। कई बार कोड का प्रबंधन ठीक से ना होने के कारण ही पूरे सॉफ्टवेयर प्रोजेक्ट असफल हो जाता है।

इन सभी समस्याओं के समाधान के लिए एक ऐसे फ्रेमवर्क या ढांचे की आवश्यकता हुई जो किसी सॉफ्टवेयर प्रोजेक्ट के सोर्स कोड को बेहतर तरीके से प्रबंधित करने का एक डिजाइन या रूपरेखा प्रस्तुत कर सके। इसीलिए MVC Framework की संकल्पना की नींव रखी गई। MVC के मदद से किसी सॉफ्टवेयर प्रोजेक्ट के code को उसके द्वारा किए जाने वाले काम के अनुसार तीन अलग-अलग लॉजिकल भागों में विभाजित कर दिया जाता है। जिसके कारण सोर्स कोड का प्रबंधन बड़ी ही सरलता से खूबसूरती के साथ किया जा सकता है तथा किसी डेवलपर या सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लिए भी MVC के डिजाइन पैटर्न का पालन करके कोड लिखना या समझना काफी आसान हो जाता है। चाहे वह डेस्कटॉप आधारित प्रोग्राम हो या वेब आधारित प्रोजेक्ट या मोबाइल आधारित एप्लीकेशन सभी प्रकार के software engineering प्रोजेक्ट में आजकल MVC Framework का उपयोग किया जाने लगा है।

इस लेख में हमने MVC architecture को सरल हिंदी भाषा में समझाने का प्रयास किया है। उम्मीद है कि आपको MVC Framework in Hindi का यह लेख पसंद आया होगा। अगर आप इस लेख से संबंधित कोई सुझाव हमें देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं, जिससे कि हम अपने लेख में हम सब परिवर्तन करके इसे और अधिक उपयोगी बना सके।

No Responses

Write a response