Python Tutorial in Hindi

Python Tutorial in Hindi

What is Python in Hindi:- पायथन एक प्रोग्रामिंग भाषा है, जिसका उपयोग वेब-डेवलपमेंट, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, मोबाइल एप्लीकेशन डेवलपमेंट जैसे कामों में किया जाता है। Python कोई नई भाषा नहीं है बल्कि इसका पहला संस्करण 1990 के दशक में ही आ गया था। लेकिन आज के समय में यह बहुत ही लोकप्रिय भाषा बन गई है।  विशेष रूप से Web Development (वेब डेवलपमेंट), Hacking (हैकिंग), Machine Leaning (मशीन लर्निंग), Artificial intelligence (आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस) सम्बंदि कामों में इसका बहुत अधिक उपयोग किया जाने लगा है।

आज के समय में पाइथन दुनिया के सबसे अधिक लोकप्रिय प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बन गया है। किसी भी दूसरे प्रोग्रामिंग भाषा की तुलना में पाइथन की मांग बाजार में सबसे अधिक है। बड़ी-बड़ी सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन निर्माता कंपनियां अपने प्रोजेक्ट के निर्माण में पाइथन का उपयोग करते हैं, उदाहरण के लिए Uber, reddit,  Pinterest, Dropbox, Netflix, Google, Instagram जैसी बड़े-बड़े प्रोजेक्ट में Python programming language का उपयोग किसी न किसी प्रकार से हुआ है।

Why to Learn Python Tutorial in Hindi

Why to Learn Python Tutorial in Hindi:-  जैसा कि आप सभी जानते हैं बाजार में अलग-अलग प्रकार के प्रोग्रामिंग लैंग्वेज उपलब्ध है, ऐसे में निर्माण संबंधी प्रक्रियाओं में  Python का उपयोग करने के कुछ प्रमुख कारण निम्नलिखित रुप से है :-

  1. High-Level Language:- पाइथन एक हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। इसलिए इसका सिंटेक्स एवं कीवर्ड अंग्रेजी भाषा से बहुत मिलता-जुलता होता है, जिसके कारण इसका उपयोग करके कोड लिखना एवं इसे समझना काफ़ी आसान होता है।
  2. Interpreted Language:- पाइथन एक इन्टर्प्रिटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। इसका मतलब ये है, की इसमें लिखे गए सोर्स कोड को चलने के लिए C, C++ programming की तरह compiler की मदद से कोड को निष्पादित नहीं करना पढ़ता, वल्कि पाइथन में PHP और Perl की तरह कोड Runtime में interpreter की मदद से निष्पादित किये जाते है।
  3. Object Oriented Programming Languages:- इसे पूरी तरह से ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग सिस्टम को आधार बनाकर डिजाइन किया गया है। इसी कारण जब हम इसका उपयोग करके किसी प्रोग्राम का निर्माण करते हैं तो इससे हमें ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग की सभी सुविधाएं जैसे कि क्लास, ऑब्जेक्ट, पॉलीमोरफ़िज्म, डाटा एनकैप्सूलेशन, डाटा हइडिंग इत्यादि का लाभ मिलता है।
  4. Free and Open Source:- कोई भी व्यक्ति पाइथन को स्वतंत्र रूप से अपने कंप्यूटर पर बिल्कुल निशुल्क डाउनलोड करके उपयोग कर सकता है। इसके साथ ही यह एक ओपन-सोर्स प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है, जिसके कारण कोई भी व्यक्ति इसे बेहतर बनाने के लिए इसके विकास की प्रक्रिया में अपना योगदान दे सकता है।
  5. Support for GUI:- पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में ऐसे बहुत सरे libraries उपलब्ध है जिनका उपयोग करके Graphical user interface (ग्राफिकल यूजर इंटरफेस) अर्थात GUI आधारित सॉफ्टवेयर का निर्माण आसानी से किया जा सकता है। उदाहरण के लिए Tkinter, wxPython और JPython कुछ ऐसे ही लाइब्रेरीज के नाम है जिनका उपयोग करके पाइथन प्रोग्रामिंग में बड़े ही आसानी से GUI आधारित सॉफ्टवेयर का निर्माण किया जा सकता है।
  6. Highly Portable:- पाइथन की सबसे बड़ी विशेषताओं में से एक है, इसकी पोटेबिलिटी अर्थात जब हम पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के कोड को विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम बाले कंप्यूटर के लिए लिखते हैं तो इसी कोड को हम आवश्यकता पड़ने पर मैकिंटोश या लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम वाले कंप्यूटर पर भी चला सकते हैं। लेकिन C या C++ Programming Language का उपयोग करके बनाए गए सॉफ्टवेयर प्रोग्राम में यह सुविधा नहीं होती है, इसलिए पाइथन को बहुत ही portable लैंग्वेज माना जाता है, क्योंकि यह हमें ऐसा एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर बनाने की सुविधा देता है जो कि किसी विशिष्ट ऑपरेटिंग सिस्टम पर निर्भर नहीं होता है।
  7. Easy to Learn and Code :- इस लैंग्वेज को सीखना एवं इसके मदद से प्रोग्राम लिखना बहुत ही आसान है, उदाहरण के लिए पाइथन प्रोग्रामिंग में वेरिएबल डिक्लेयर करने के लिए किसी भी प्रकार के डाटा टाइप के उपयोग करने की आवश्यकता नहीं होती। इसमें किसी भी दूसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की तुलना में बड़े ही आसानी से वेरिएबल डिक्लेरेशन किया जा सकता है। यह कोड लिखने की प्रक्रिया को आसान बना देता है एवं एवं बहुत सारे Syntax Error के संभावनाओं को पैदा होने से पहले ही रोक देता है।
  8. Support for Other Languages:- पाइथन C, C++, C#, java जैसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ मिलकर काम करने की क्षमता रखता है। इसकी मदद से अन्य प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में लिखे गए कोड के बीच बड़ी आसानी से सामंजस्य स्थापित किया जा सकता है।

History of Python in Hindi:- इसे Guido van Rossum नाम के कंप्यूटर प्रोग्रामर के द्वारा 1991 में बनाया गया था, जो कि मूल रूप से नीदरलैंड के निवासी हैं। Rossum ने नीदरलैंड के राष्ट्रीय अनुसंधान केंद्र जिसे सेंट्रम विस्कंडे एंड इंफोर्मेटा (CWI) के नाम से भी जाना जाता है उसमें  1980 के दशक में पाइथन की कल्पना की थी। पाइथन मूल रूप से ABC language से प्रेरित है।  पाइथन के सबसे पहले संस्करण को February 1991 में प्रकाशित किया गया था। इसका दूसरा संस्करण Python 2.0 को October 16, 2000 और तीसरा संस्करण Python 3.0 को December 3, 2008  में प्रकाशित किया गया था।

Real Life Applications of Python in Hindi:- वास्तविक जीवन में पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का उपयोग निम्नलिखित क्षेत्रों में किया जाता है:-

  • कंप्यूटर आधारित सॉफ्टवेयर का निर्माण।
  • मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस।
  • डाटा साइंस और डाटा विजुलाइजेशन।
  • मोबाइल आधारित एप्लीकेशन का निर्माण।
  • जटिल गणितीय संबंधी गणना।
  • वेब डेवलपमेंट, उदाहरण के लिए YouTube, Instagram, Dropbox जैसे वेबसाइट में पाइथन का उपयोग होता हैं।
  • गेम डेवलपमेंट, उदाहरण के लिए Battlefield, Freedom Force, Disney Toontown जैसे गेम के निर्माण में पाइथन का उपयोग हुआ हैं।
  • इमेज और टेक्स्ट प्रोसेसिंग।
  • Arduino (आर्डिनो) और Raspberry Pi (रास्पबेरी पाई) जैसे छोटे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणो में पाइथन का उपयोग किया जाता है।

Characteristics of Python Programming in Hindi :- पायथन प्रोग्रामिंग की प्रमुख विशेषतायें निम्नलिखित रूप से है :-

  • पाइथन स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज सिंटेक्स का किसी भी दूसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की तुलना में काफी सरल एवं है, जिसके कारण इसे समझना एवं इसका उपयोग करना काफी आसान होता है।
  • यह एक प्लेटफॉर्म इंडिपेंडेंट स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है अर्थात यह किसी विशिष्ट ऑपरेटिंग सिस्टम पर निर्भर नहीं होता है जिसके कारण किसी एक ऑपरेटिंग सिस्टम पर बनाया गए प्रोग्राम को बिना किसी परेशानी के किसी भी दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम वाले कंप्यूटर पर चलाया जा सकता है।
  • किसी भी दूसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की तुलना में यह अधिक रन टाइम फ्लैक्सिबिलिटी की सुविधा देता है।
  • पाइथन बहुत सारे पूर्व निर्मित लाइब्रेरीज एवं क्लासेस की सुविधा देता है जिन्हें जिनका उपयोग करके सॉफ्टवेयर डेवलपर एवं प्रोग्रामर बड़ी ही आसानी से अपने प्रोजेक्ट निर्माण के काम को जल्दी से जल्दी पूरा कर सकता है।
  • पाइथन में हम फंक्शनल और स्ट्रक्चर्ड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की तरह भी उपयोग कर सकते हैं और इसे ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की तरफ भी उपयोग कर सकते हैं।
  • पाइथन के code को कंपाइल करने की आवश्यकता नहीं होती जिसके कारण इसमें लिखे गए कोड को निष्पादित करने में समय बर्बाद नहीं करना पड़ता है।
  • इसमें एडिटिंग, डीबरिंग और टेस्टिंग की प्रक्रिया को बहुत ही कम समय में जल्दी से पूरा किया जा सकता है।

How to install Python in Hindi:- पाइथन को अपने निजी कंप्यूटर पर इंस्टॉल करने के लिए आपको सबसे पहले उसके आधिकारिक वेबसाइट python.org से पाइथन को डाउनलोड करना होगा। उसके आधिकारिक वेबसाइट पर आपको पाइथन के कई अलग-अलग संस्करण मिल जाएंगे जिसमें से आप अपनी इच्छा अनुसार किसी भी एक पाइथन के संस्करण को डाउनलोड कर सकते हैं, लेकिन सर्वोत्तम विकल्प के रूप में आपको पाइथन के नवीनतम संस्करण को चुनना चाहिए या फिर कई बार लोग स्कूल या कॉलेज के विद्यार्थी अपने शिक्षा के पाठ्यक्रम के अनुसार भी पाइथन के किसी संस्करण को डाउनलोड करते हैं। पाइथन के फाइल को डाउनलोड करने के बाद उसे इंस्टॉल करने से संबंधित जानकारी भी उसके आधिकारिक वेबसाइट पर ही विस्तार से बता दिया गया है।

Summery on Python Tutorial in Hindi:- आज के समय में पाइथन एक लोकप्रिय प्रोग्रामिंग भाषा है, जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के तकनीको एवं इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से संबंधित प्रोग्रामिंग के लिए बहुत अधिक किया जाने लगा है। पाइथन में उपलब्ध लाइब्रेरी एवं इसके इंटेक्स की सरलता के कारण ने इससे आज की सबसे अधिक लोकप्रिय प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बना दिया है। यही कारण है कि आज के समय में चाहे वह Game Development, web Development, Ethical Hacking, software, mobile application development, artificial intelligence हो या machine learning सभी छेत्रों में पाइथन प्रोग्रामिंग का उपयोग किया जाने लगा है।

वर्तमान समय में पाइथन सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बन गया है। इसने दूसरे सभी Programming एवं Scripting लैंग्वेज जैसे कि Java, C++, JavaScript आदि को अपने उपयोगिता के क्षेत्र में काफी पीछे छोड़ दिया है। पाइथन के इसी बढ़ते मांग को देखते हुए भारत सरकार ने CBSE बोर्ड की स्कूली शिक्षा में Python Tutorial को जोड़ दिया है। इसी कारण आजकल कक्षा ग्यारहवीं एवं बारहवीं के कंप्यूटर विषय में पाइथन लैंग्वेज को भी पढ़ाया जाने लगा है।

विशेषज्ञों का ऐसा मानना है कि भविष्य में पाइथन की मांग और अधिक बढ़ने वाली है, क्योंकि जैसे-जैसे मशीन लर्निंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, डाटा माइनिंग जैसे तकनीकों की मांग बढ़ेगी वैसे-वैसे पाइथन जैसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की मांग और अधिक बढ़ने वाली है, अर्थात पाइथन एक बहुत ही उपयोगी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बन गया है। जिसे सीखना बहुत ही लाभप्रद है।

इस लेख में हमने Python programming language को सरल हिंदी भाषा में समझाने का प्रयास किया है। उम्मीद है कि Python Tutorial in Hindi का यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। अगर आप Python Tutorial के इस आर्टिकल से संबंधित कोई सुझाव हमें देना चाहते हैं, तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं जिससे कि हम अपने इस लेख में आवश्यक सुधार करके इसे और अधिक उपयोगी बना सकें।

 

6

No Responses

Write a response