RTI in Hindi | RTI Full Form (Full Guide)

RTI in Hindi | RTI Full Form (Full Guide)

आरटीआई क्या है? (RTI In Hindi):- Hello Friends जैसा कि हम सभी जानते कि किसी देश का विकास वहां के नागरिकों पर निर्भर करता है। अगर देश का लोकतंत्र और अर्थव्यवस्था अच्छी होगी तभी देश आगे की और जाएगा।

लेकिन दोस्तों हम जानते है कि भारत मे आये दिन भ्रष्टाचार की खबरें देखने को मिलती है। इसलिए सरकार ने इसे रोकने के लिए एक अधिनियम को लागू किया था।

जिसका नाम RTI (Right To Information) है।

जिसके बारे में आपने काफी सुना होगा। लेकिन क्या आप जानते है कि आख़िर यह क्या है? (What is RTI) इसका क्या मतलब होता है। (Meaning Of RTI) और इसका पूरा नाम क्या है? (Full Form Of RTI In Hindi)।

अगर आप इन सभी बारे में नही जानते है तो आपको परेशान होने की आवश्यकता नही है।

क्योंकि आज हम आपको RTI के बारे में पूरी जानकारी लेकर आयें है जो आप सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। So Friends Article को Last तक Read करें।

आरटीआई क्या है? (What Is RTI):

भारत मे भ्रष्टाचार्य काफी बढ़ता जा रहा है। जिसके प्रभाव सीधे देश की अर्थव्यवस्था और लोकतंत्र पर होता दिख रहा था इसलिए सरकार ने इसे रोकने के लिए 2005 में संसद ने एक अधिनियम लागू किया गया है।

जिसे (RTI) के नाम से जानते है। जिसे हिंदी में सूचना का अधिकार कहते है। इस अधिनियम के तहत भारत के हर नागरिक को सूचना का अधिकार दिया गया है।

इसके अंतर्गत अब भारत का हर नागरिक अपने हक की लड़ाई कर सकता है। या हम कहे सकते है कि किसी भी सरकारी दफ्तर में सरकार की तरफ से किस काम के लिए कितना बजट (पैसा) आया है.

और कितना पैसा कहां खर्च किया गया इसके बारे में कोई भी नागरिक पूरी जानकारी ले सकता है। इसके लिए बस आपको जिस विभाग से जुड़ी जानकारी लेनी है तो उसके लिए एक RTI Application Apply करना होगा।

उसके बाद आप कुछ ही दिनों में विभाग से जुड़ी हासिल कर सकते है। अधिक जानकारी पाने के लिए Article Last तक पढ़े-  

आरटीआई क्या है हिंदी में (What Is RTI In Hindi):

2005 में आरटीआई संसद के द्वारा शुरू किया बहुत महत्वपूर्ण अधिनियम है। RTI जिसे हम हिंदी में सूचना का अधिकार कहते है. के सभी नागरिकों को समानता का अधिकार देता है।

भ्रष्टाचार्य को रोकने को रोकना इस अधिनियम जो लागू करने का सबसे मुख्य कारण है। जैसा कि हम सभी जानते है किसी भी विभाग में कई तरह-तरह के पदों पर लोग अपना काम करते है और सभी विभाग को सरकार अपनी योजनाएं लोगो तक पहुंचाने के लिए विभाग को बजट भी देती है।

ताकि भारत के नागरिकों का जीवन अच्छे से व्यतीत हो सके। लेकिन कई बार होता है कि विभाग में या हम कहे सकते है की System को चलाने वाले कुछ ऐसे लोग भी होते है जो अपना काम ईमानदारी से नही करते है जिस कारण सरकार के द्वारा नागरिकों के लिए दी जाने वाली योजनाओं का लाभ प्राप्त नही हो पाता है.

इन्ही सब बातों को ध्यान में रखते हुए RTI (Right To Information In Hindi) को लाया गया। जिसके अंतर्गत अब भारत का हर नागरिक अपने हक की लड़ाई लड़ सकता है। मतलब की किसी विभाग के लिए सरकार ने कितना बजट दिया है,

और बजट का उपयोग कहाँ किया है इन सभी के बारे में हर नागरिक उस विभाग से जानकारी हासिल कर सकता है।

आरटीआई को अगर हम बिल्कुल सरल और उदाहरण के तौर पर समझे तो आरटीआई एक ऐसा नियम जिसके अंतर्गत हम किसी भी सरकारी कार्यालय से सरकार के द्वारा दी जाने वाली योजनाओं के बारे में पूछ सकते है.

जैसे कि आप जहां रहते है वहां उस जगह के विकास के लिए सरकार ने कितना पैसा दिया और उस पैसे को कहां खर्च किया गया, या आपको सरकार की तरह से वितरण की जाने वाली सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान, अस्पताल आती के लिए कितना पैसा सरकार के द्वारा दिया गया और वह पैसा खर्च हुआ या नही इस तरह की सभी जानकारी आप पा सकते है।

आरटीआई का पूरा नाम (Full Form OF RTI):

आरटीआई का पूरा नाम क्या होता है या फिर इसे हिंदी में क्या कहते है? भारत के नागरिक होने के नाते आपको इसके बारे में पता होना बेहद जरूरी है। इसके अलावा अगर दोस्तों आप स्टूडेंट है तो यह आपके इसके बारे में पता और भी ज्यादा जरूरी हो जाता है क्योंकि कई तरह के exam के अक्सर आरटीआई के पूरे नाम के बारे में पूछा जाता है. तो इसलिए चलिये इसके बारे में भी जान लेते है-

[su_note radius=”5″]Full Form OF RTI In English :- (Right To Information In Hindi)[/su_note]

[su_note radius=”5″]Full Form OF RTI In Hindi:- सूचना का अधिकार[/su_note]

आरटीआई के नियम (Rule Of RTI):

आरटीआई फ़ाइल करने के लिए कुछ नियम कानून बनाये गए है। जिसके अंतर्गत आप किसी विभाग के लिए आरटीआई फ़ाइल कर सकते है।

और अपने सूचना का अधिकार पा सकते है। इसलिये नीचे दिए आरटीआई फ़ाइल करने से पहले आप इस अधिनियम के तहत बनाये गए नियम को ज़रूर पढ़े –

  • आरटीआई केवल भारत के नागरिक के लिये बनाया गया है। so इसलिए अगर आप भारतीय है तभी किसी सरकारी संस्थान, सरकारी विभाग के लिए RTI File कर सकते है।
  • जिस संस्थान से आप सूचना का अधिकार पाना चाहते है उसका पता आपको सही – सही होना चाहिये।
  • गरीबी रेखा से ऊपर निवास करने वाला अगर कोई भी व्यक्ति RTI File करता है तो उसके लिए कुछ Fees भी भरनी होती है।
  • RTI के अंतर्गत अधिकतम 30 दिनों में जानकारी देने का नियम है लेकिन अगर आपको ज्यादा Emergency है तो विभाग आपको 48 घंटे में जानकारी निकाल देगा।
  • मुख्य रूप से RTI File करने के लिए 10 रुपये का चार्ज लगता है।
  • गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले नागरिक बिल्कुल फ्री में RTI File कर सकते है लेकिन इसके उनको गरीबी रेखा से जुड़े किसी दस्तावेज़ को दिखाना होगा।

आरटीआई फाइल कैसे करे? (RTI Application In Hindi):

RTI File सूचना पाने का अधिकार भारत के हर नागरिक के लिए संसद के द्वारा शुरू किया गया काफी अहम अधिनियम है। So अगर आप RTI करना चाहते है तो यह बेहद सरल जानकारी के लिए बता दे कि RTI File करने के दो तरीके है जिसके अंतर्गत आप आप अपने सूचना के अधिकार को पा सकते है तो चलिये जानते है-

RTI File In Online:

अगर आप किसी विभाग से जानकारी पाना चाहते है मतलब की RTI File करना चाहते है तो आप नीचे दी गयी स्टेप को Follow करके Online RTI File कर सकते है।

  • सबसे पहले आपको https://rtionline.gov.in/request/request.php Website पर जाना है।
  • इसकी Website पर आते ही यहां आपको एक Form मिलेगा जहां आपको पूछी गयी सभी जानकारी जैसे Department Name, Name, Gender, Address, pin Cod, State, Mobile Number,Email और RTI Request Etc भर देना है।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको नीचे दिए Security Code को डालना है और finally Submit Button पर क्लिक कर देना है।
  • Submit button पर click करने के बाद आपको Receipt मिलेगा जिसे आपको Stor कर लेना और Finally Print out निकालकर कर रख लेना है।
  • कुछ ही दिनों बाद आपको विभाग से पूछी गयी जानकारी आपके ईमेल, मोबाइल पर मिल जाएँगी। 

RTI File In Offline:

अगर आप सीधे किसी अपने शहर में किसी संस्थान से जुड़ी जानकारी पाने के लिए RTI मतलब की अपने सूचना के अधिकार को पाना चाहते है तो यह काफी आसान है बस इसके लिए जिस सरकारी संस्थान से आप सरकार की योजनाओं के बारे में जानना चाहते है वहां आपको विभाग को RTI आवेदन (Application) करना होता है।

उसके बाद विभाग की जिम्मेदारी बनती है कि 30 दिन बाद आपको सभी जानकारी दे देनी होगी।

सके साथ ही आपको बता से की RTI के अनुसार आपको उचित जानकारी नही मिलती है या फिर मिली जानकारी में कुछ गड़बड़ी है तो आप विभाग से संबंधित कर्मचारी पर कानून कार्यवाही भी कर सकते है।

[su_table responsive=”yes”]

SSLC Full Form

FMCG Full Form

UPS Full Form

GDP Full Form

B.Ed Full Form

CO Full Form

TRP Full Form

GPS full form

[/su_table]


Conclusion:

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल पे बस इतना ही था. I Hope आप सबको ये आर्टिकल बोहोत ही पसंद आया और आपको RTI in Hindi | RTI Full Form की पुरे जानकारी मिल गए होंगे।

अगर आपको आर्टिकल अत्छा लगा तो आप इसे आपने दोस्तों साथ Share करना ना भूले। इसी तरह के जानकारी के लेया आप हमारे साइट पे जरूर Visit करते रहे.

[su_note radius=”10″]Note:- दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दे कि RTI ((Right To Information) सिर्फ भारत के हर राज्य में आप इसका फायदा ले सकते है, लेकिन जम्मू or कश्मीर में इसका इस्तेमाल नही कर सकते है।[/su_note]

2

No Responses

Write a response