Web Services in Hindi

Web Services in Hindi

Definition of Web Service in Hindi:- वेब सर्विस को अलग-अलग संगठनों द्वारा अनेक प्रकार से परिभाषित किया गया है लेकिन अगर साधारण शब्दों में कहें तो – Web service एक सॉफ्टवेयर सेवा है जिसके उपयोग से internet से ज़ुरा हुआ कोई भी इलेक्टॉनिक उपकरण जैसे की मोबाइल, लैपटॉप, कंप्यूटर आदि आपस में जानकारियों का आदान-प्रदान कर सकते है। आमतौर पर वेब सर्विसेज का उपयोग वेब आधारित एप्लीकेशन जैसे की Website, Mobile Apps आदि एवं सॉफ्टवेयर के बीच सूचनाओं का आदान प्रदान करने के लिए किया जाता है।

अलग-अलग इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में विभिन्न प्रकार के programming language के उपयोग से Software और Application बनाए जाते है, इसलिए विभिन्न प्रकार के उपकरणों में मौजूद Application के बीच जानकारियों का आदान-प्रदान करने के लिए एक माध्यम की आवश्यकता पड़ती है।  उदाहरण के लिए Windows Operating System वाले कंम्यूटर का उपयोगकर्ता अगर Linux ऑपरेटिंग सिस्टम वाले कंम्यूटर को अगर कोई जानकारी भेजना चाहता है तो इसके लिए web services को एक माध्यम के रूप में उपयोग कर सकता है और जानकारियों का आदान-प्रदान कर सकता है।

Web Service के उपयोग से विभिन्न device के बीच जानकारियों को XML ( Extensible markup language / एक्स्टेंसिबल मार्कअप लैंग्वेज ) के रूप में भेजा जाता है। यह बहुत ही सरल भाषा है और लगभग सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज द्वारा इसे समझा जाता है। मतलब की हम ऐसा कह सकते है की जब भी दो Software या Application के बीच कोई जानकारी या Message का आदान-प्रदान होता है तो वो XML (Extensible markup language) में होता है।

Type of Web Service in Hindi 

  1. SOAP Web Services :- SOAP ( Simple Object Access Protocol / सिंपल ऑब्जेक्ट एक्सेस प्रोटोकॉल ) एक XML- आधारित प्रोटोकॉल है, मतलब की मानकों या नियमों का एक सेट है, जिसे विकसित किया गया था, ताकि विभिन्न प्रोग्रामिंग भाषाओं पर बनाए गए एप्लिकेशन एक-दूसरे से संवाद कर सकें। SOAP को W3C नाम के अंतरराष्ट्रीय संस्था द्वारा एप्लिकेशन के बीच संचार के लिए प्रस्तावीत किया गया है। SOAP संदेश भेजने के लिए HTTP protocol को एक आवरण के रूप में उपयोग करता है। इसकी सबसे बड़ी गुण यह है की ये जानकारियों को सुरक्षित करने के लिए WS Security नाम की सुविधा प्रदान करता है।
  2. REST Web Services :- REST का  पूरा नाम है – Representational State Transfer ( रिप्रेजेंटेटिव स्टेट ट्रांसफर ). ये SOAP की तरह कोई प्रोटोकॉल नहीं है मतलब की ये नियमों का एक सेट नहीं है, बल्कि एक सॉफ्टवेयर architecture ( आर्किटेक्चर ) है। जिन Application को REST आर्किटेक्चर का उपयोग करके डिज़ाइन किया गया है, उन्हें Restful Web Services कहा जाता है। यह URL के उपयोग से उन जानकारियों या Data का पता लगता है जिनका आदान-प्रदान किया जाता है और transport protocol जैसे की HTTP, GET, POST, PUT, DELETE में से किस एक का उपयोग करके उनका संचार करती है।
    REST architecture के उपयोग से बनाया गया वेब एप्लीकेशन जानकारियों के आदान-प्रदान  के लिए SOAP protocol का भी उपयोग कर सकता है क्योंकि REST एप्लीकेशन को बनाने के लिए केवल एक ढाँचा प्रदान करता है और जानकारियों के संचार के लिए यह अन्य protocol पर आधारित है।

Advantages and Disadvantages of Web Services in Hindi

Advantages of Web Services in Hindi :- वेब सर्विस के उपयोग से मिलने वाले प्रमुख लाभ निम्नलिखित रुप से हैं:-

  • Web Services के कारण अलग-अलग Programming Language और Operating System में बनाये गए application या Software के बीच जानकारियों और मैसेज का संचार हो पता है।
  • किसी एक एप्लीकेशन के लिए बनाये गए web services का उपयोग एक ही समय पर बहुत सारे applications के द्वारा किया जा सकता है।
  • वेब सर्विस दो अलग-अलग प्रकार के टेक्नोलॉजी का उपयोग करके बने उत्पाद के बीच संचार स्थापित करने में मदद करता है।
  • जानकारियों का संचार XML भाषा के उपयोग से करता है जो की लगभग सभी वेब आधारित भाषा और प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के द्वारा समझा जा सकता है।
  • Web Services जैसे की SOAP मैसेज का आदान प्रदान करने के लिए HTTP protocol का उपयोग करती हैं, इसलिए Web Services का उपयोग करने के लिए किसी नए तकनीक की जरुरत नहीं है।  बल्कि मौजूदा नेटवर्क के उपयोग से भी इसे किया जा सकता है।
  • किसी एप्लीकेशन के द्वारा एक ही समय पर अलग-अलग संस्करण के Web Services का उपयोग किया जा सकता है।

Disadvantages of Web Services in Hindi :- वेब सर्विस की प्रमुख खामियां निम्नलिखित रुप से है:-

  • चूँकि वेब सर्विस विभिन्न उत्पादों के बीच data का आदान-प्रदान करने में मदद करता है। इसलिए अगर किसी समय वेब सर्विस सेवा प्रदान करने में असफल हो जाए तो उत्पाद की पूरी प्रक्रिया ही रुक जाएगी है।
  • ऐसा आवश्यक नहीं है कि वेब सर्विस द्वारा प्रदान की जाने वाली data format सभी उत्पाद के आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम हो। उदाहरण के लिए ऐसा भी हो सकता है कि कोई उत्पाद XML फॉर्मेट की जानकारियों को समझने में सक्षम ही ना हो।
  • वेब सर्विसेज पर अधिक निर्भरता सुरक्षा के खतरा को भी पैदा कर देता है, अगर किसी समय वेब सर्विस से उत्पाद संबंधी महत्वपूर्ण सूचनाओं को लीक कर दिया जाए तो उपभोक्ताओं की महत्वपूर्ण जानकारियां आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों तक पहुंच सकती है।

Conclusion on Web Services Tutorial in Hindi :- वेब सर्विस का उपयोग web based application और software के बीच इंटरनेट के माध्यम से सूचनाओं का आदान प्रदान करने के लिए किया जाता है। इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह अलग-अलग तकनीक के उपयोग से निर्मित उत्पाद को बीच देख एक सुलभ संचार माध्यम स्थापित करवाने में मदद करता है।आजकल लगभग सभी वेबसाइट और मोबाइल एप्लीकेशन के निर्माण में इस प्रकार के तकनीक का उपयोग किया जाता है क्योंकि यह काफी सरल एवं ट्रेंडिंग तकनीक में से एक है। इसके साथ ही यह सूचनाओं के प्रवाह की गति को भी तेज कर देता है जिसके कारण उत्पाद तेजी से संचार कर पाते है ।

इस लेख में हमने वेब सर्विस को सरल हिंदी भाषा में समझाने का प्रयास किया है। उम्मीद है कि आपको Web Services in Hindi का यह लेख पसंद आया होगा। अगर आप वेब सर्विस के इस लेख से संबंधित कोई सुझाव हमें देना चाहते हैं, तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं। जिससे कि हम अपने लेख में आवश्यक परिवर्तन करके इसे और अधिक उपयोगी बना।

3

No Responses

Write a response